45 मर्दों के बीच अकेली कुली का काम कर रही है ये मां, अपने बच्चों को बनाना चाहती हैं अफसर

एक सामान्य शिक्षित महिला के लिए रोजगार मिलना काफी मुश्किल होता है ऐसे में एक महिला ने मजबूरी में अपने बच्चों का पेट और बूढ़ी सांस को पालने के लिए कुली की नौकरी की। बेहद स्वाभिमानी ये महिला विधवा होने के बाद किसी और के सामने हाथ न फैला कर खुद के बलबूते पर नौकरी कर अपना घर चला रही है। मेहनत मजदूरी कर अपने बच्चो को पढ़ा रही है और बूढ़ी सांस की देख भाल भी कर रही है। यकीनन यह एक साहसी महिला ही है, चलिए आगे आपको पूरी कहानी बताते है…

स्वाभिमानी महिला कुली

संध्या मारावी जबलपुर की रहने वाली हैं। इनकी उम्र 31 वर्ष की है और ये कुली का काम करतीं हैं। संध्या नौकरी के लिए कुंडम से प्रतिदिन 90 किमी ट्रैवल (45 किमी आना-जाना) करके कटनी रेलवे स्टेशन पहुँचती हैं। फिर काम करके जबलपुर और फिर घर लौट पाती हैं।

अक्सर लोग इस महिला कुली को देखकर हैरान हो जाते हैं, लेकिन संध्या लोगों की सोच को अनदेखा करते हुए अपना काम पूरी शिद्दत से करती हैं। वे कहती हैं कि “भले ही मेरे सपने टूट गए हैं, पर हौसले अभी ज़िंदा है। ज़िन्दगी ने मुझसे मेरा हमसफर छीन लिया है,

लेकिन अब बच्चों को पढ़ा लिखाकर फ़ौज में अफसर बनाना चाहती हूँ। इसके लिए मैं किसी के आगे हाथ नहीं फैलाऊंगी। कुली नंबर 36 हूँ और इज़्ज़त का खाती हूँ।” 45 आदमियों के बीच अकेली महिला कुली हैं संध्या, इज्जत से कमाती हैं, बच्चों को बनाना चाहती हैं अफसर।

मजबूरी में करती है ये काम

संध्या हर रोज़ अपने घर जबलपुर से मध्य प्रदेश के कटनी रेलवे स्टेशन पर 90 किलो मीटर यात्रा करके कुली का काम करने जाति हैं। उनके ऊपर एक बूढ़ी सास और तीन बच्चों के पालन पोषण की जिम्मेदारी है, इसलिए वे यह जिम्मेदारी उठाने के लिए,

यात्रियों का बोझ उठती हैं। कुली नम्बर 36 संध्या कटनी जंक्शन पर कुली का काम जनवरी 2017 से यह काम कर रहीं हैं। उन्होंने बताया कि वे यह काम मजबूरी में करती हैं क्योंकि उन्हें अपनी बूढ़ी सास और तीन बच्चों को पालना है। वे कहती हैं कि वह अपने पति के साथ कटनी में ही रहती थीं। उनके तीन बच्चे हैं।

विधवा होने के बाद कमाने का पड़ा बोझ

30 वर्ष की उम्र में पहले संध्या अन्य महिलाओं की तरह ही घर और बच्चों को संभाला करती थी। इसी बीच उनके पति भोलाराम बीमार हो गए। उनकी बीमारी काफ़ी समय तक चली और फिर 22 अक्टूबर 2016 को उनकी मृत्यु हो गई। जब उनके पति बीमार थे,

तब भी वे मजदूरी करके अपने घर का ख़र्च उठाते थे। पति के गुजर जाने के बाद सारी जिम्मेदारी संध्या पर आ गई। उनको अपने परिवार के लिए रोजी-रोटी की चिंता होने लगी इसलिए उन्हें जल्द से जल्द किसी नौकरी की आवश्यकता थी, अतः जब कोई अन्य नौकरी ना मिल पाई तो उन्होंने कुली की नौकरी ही कर ली।

संघर्ष कर अपने बच्चो को फौजी अफसर बनाना चाहती हैं

संध्या कहती हैं कि जिस समय हमें नौकरी खोज रही थी तब किसी व्यक्ति ने उन्हें बताया कि कटनी रेलवे स्टेशन पर कुली की आवश्यकता है तो उन्होंने जल्दी से इस नौकरी के लिए आवेदन कर दिया। वह बताती है कि इस रेलवे स्टेशन पर 45 पुरुष कुली हैं और उनके बीच में अकेली संध्या महिला कुली के तौर पर काम करते हैं

पिछले वर्ष ही उन्हें बिल्ला नंबर 36 मिला। संध्या के तीन बच्चे हैं, शाहिल उम्र 8 वर्ष, हर्षित 6 साल व बेटी पायल 4 वर्ष की है। इन तीनों बच्चों के पालन और अच्छी शिक्षा के लिए वह लोगों का बोझ उठाकर अपने बच्चों को पढ़ाती हैं। वे चाहती हैं कि उनके बच्चे बड़े होकर देश की सेवा के लिए फ़ौज में अफसर बनें। बच्चों के लिए स्वाभिमान के साथ संघर्ष करती हुई इस माँ के जज्बे को सलाम है।


Posted

in

by

Tags: