एक हादसे में लूटी गई माँ बनने की खुशी ,आज भी अपने ला पता बेटे को याद कर इमोशनल हो जाती हो यह एक्ट्रेस …

एक्ट्रेस मशहूर एक्ट्रेस बिंदू 70 और 80 के दशक की फिल्मों में नेगेटिव रोल के लिए 70 साल की हो गई हैं। बिंदु के पिता, जिनका जन्म 17 जनवरी, 1951 को गुजरात के वलसाड में हुआ था, जब वह केवल 13 वर्ष की थीं, तब उनका निधन हो गया।

घर में 7 भाई-बहनों में सबसे बड़ा होने के कारण सारी जिम्मेदारी इसी पर आ गई।

बिंदू ने अपने करियर की शुरुआत 1962 की फिल्म अनपधा से की थी। हालांकि इसमें उन्होंने बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट काम किया था।

उनकी पहचान 1969 की फिल्म इत्तेफाक और दो रास्ता से हुई थी। इसके बाद 1970 में उनके क्रिकेट डांस ‘कटी पतंग’ को काफी लोकप्रियता मिली।

मात्र 16 साल की उम्र में बिंदू की शादी चंपकलाल जावेरी से हो गई थी।

बात उस समय की है जब बिजनेसमैन चंपक जावेरी स्कूल में पढ़ रहे थे। बिंदू ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘वह तारादेव (मुंबई) के सोनावाला टेरेस में मेरा पड़ोसी था।

हमारे बीच पांच साल का गैप था। मुझे उनसे आसानी से प्यार नहीं हुआ। मैंने उन्हें बहुत प्रताड़ित किया।”

<p> बिंदू के मुताबिक वो मुझे आउटिंग के बारे में बताते थे और मैं कुछ वक्त मांगता था और फिर जवाब नहीं देता था। मैंने ऐसा कई बार किया। जाहिर तौर पर वह गुस्से में थे, लेकिन उन्होंने इसे कभी व्यक्त नहीं किया। मुझे एहसास हुआ कि यह सिर्फ एक आकर्षण नहीं है, बल्कि वे वास्तव में मुझसे प्यार करते हैं। बाद में हमें अपने परिवारों के विरोध का सामना करना पड़ा, लेकिन हम डटे रहे और शादी कर ली। & Nbsp; </p>

बिंदू के मुताबिक वह मुझे आउटिंग के बारे में बताते थे और मैं कुछ वक्त मांगता था और फिर जवाब नहीं देता था। मैंने ऐसा कई बार किया।

जाहिर तौर पर वह गुस्से में थे, लेकिन उन्होंने इसे कभी व्यक्त नहीं किया।

मुझे एहसास हुआ कि यह सिर्फ एक आकर्षण नहीं है, बल्कि वे वास्तव में मुझसे प्यार करते हैं। बाद में हमें अपने परिवारों के विरोध का भी सामना करना पड़ा, लेकिन हम डटे रहे और शादी कर ली।

<p> इस बिंदु के लिए, 1977 से 1980 तक की अवधि अत्यंत कठिन थी। बिंदु ने एक साक्षात्कार में कहा, "हमने एक बच्चे की योजना बनाई और मैं गर्भवती भी थी। मैंने गर्भावस्था के तीन महीने बाद काम करना बंद कर दिया। लेकिन सातवें महीने में मेरा गर्भपात हो गया। मैं पूरी तरह से टूट गई। यह भाग्य की बात है।" सब कुछ मिलता है। मेरे पति भी बहुत निराश हैं। मैं आपको बता दूं कि इस दुर्घटना के बाद कभी भी माँ बनने की बात नहीं है। & Nbsp; </p>

1977 से लेकर 1980 तक का समय काफी दुखद रहा। बिंदु ने एक साक्षात्कार में कहा, “हमने एक बच्चे की योजना बनाई और मैं गर्भवती थी।”

मैंने गर्भावस्था के तीन महीने बाद काम करना बंद कर दिया।

लेकिन सातवें महीने में मेरा गर्भपात हो गया। मैं पूरी तरह टूट गया। भाग्य की बात है। है। सबको सब कुछ नहीं मिलता। मेरे पति भी बहुत निराश हैं।आपको बता दें कि बिंदु इस घटना के बाद कभी मां नहीं बनीं।

बिंदू ने एक इंटरव्यू में कहा कि अपनी मां को स्टेज पर परफॉर्म करते देख उनके मन में भी एक्ट्रेस बनने का ख्याल आया। लेकिन उनके पिता नानूभाई देसाई उन्हें डॉक्टर बनाना चाहते थे। बिंदू के मुताबिक वह 7 बहनों और 1 भाई में सबसे बड़ी थीं। इसलिए जब उनके पिता बीमार पड़ गए, तो परिवार की जिम्मेदारी उन पर आ गई। & Nbsp; </p>

बिंदू ने एक इंटरव्यू में कहा था कि मां को स्टेज पर परफॉर्म करते देख उनके मन में एक्ट्रेस बनने का आइडिया आया। लेकिन उनके पिता नानूभाई देसाई उन्हें डॉक्टर बनाना चाहते थे।

बिंदू के मुताबिक वह 7 बहनों और 1 भाई में सबसे बड़ी थीं। इसलिए, जब उसके पिता बीमार पड़ गए, तो परिवार की जिम्मेदारी उन पर आ गई।

<p> बात के अनुसार बाप कहते हैं- तुम मेरे बेटे हो। मेरे पिता की मृत्यु के बाद, मैंने परिवार का समर्थन करने के लिए मॉडलिंग शुरू कर दी। मैं अपनी काया की वजह से 11 साल की उम्र में 16 साल का लग रहा था। मोहन कुमार की फिल्म 'अनप अध' मिलने तक मैंने कुछ दस्तावेजों पर भी काम किया। </p>

बिंदु के अनुसार पिता कहा करते थे- तुम मेरे पुत्र हो। मेरे पिता की मृत्यु के बाद, मैंने परिवार का समर्थन करने के लिए मॉडलिंग शुरू कर दी।

मैं अपनी काया की वजह से 11 साल की उम्र में 16 साल का था। मोहन कुमार की फिल्म आने तक मैंने कुछ दस्तावेजों पर भी काम किया।

बिंदू ने बॉलीवुड में अपनी शुरुआत अनुपाधा (1962) से की जब वह सिर्फ 11 साल की थीं। इस फिल्म में उन्होंने माला सिन्हा की बेटी की भूमिका निभाई थी। उनका असली बॉलीवुड करियर शादी के बाद ही शुरू हुआ था। शादी के एक साल बाद उन्होंने राजेश खन्ना के साथ 'दो रास्ता' (1969) साइन की। जब वह फिल्म की शूटिंग कर रही थीं, तब उनके पास 'इत्तेफाक', 'डॉली' और 'आ सावन जूम के' जैसी फिल्में थीं। </p>

बिंदू ने बॉलीवुड में अपनी शुरुआत अनापधा (1962) से की थी, जब वह सिर्फ 11 साल की थीं। इस फिल्म में उन्होंने माला सिन्हा की बेटी की भूमिका निभाई थी।

उनका असली बॉलीवुड करियर शादी के बाद ही शुरू हुआ था।

शादी के एक साल बाद उन्होंने राजेश खन्ना के साथ ‘दो रास्ता’ (1969) साइन की। जब वह इस फिल्म की शूटिंग कर रही थीं, तब उनके पास ‘इत्तेफाक’, ‘डॉली’ और ‘आ सावन जूम के’ जैसी फिल्में थीं।

<p> 1973 में प्रकाश मेहरा की फिल्म 'जंजीर' ने अमिताभ बच्चन ही नहीं बल्कि उनका भी नाम बदल दिया। फिल्म में उनके किरदार का नाम मोना था, जिसे खलनायक अजीत 'मोना डार्लिंग' कहते थे। बात को आज भी कई लोग इसी नाम से पुकारते हैं। & Nbsp; </p>

1973 में, निर्देशक प्रकाश मेहरा की फिल्म ‘जंजीर’ ने अमिताभ बच्चन को न केवल पेश किया, बल्कि उनका नाम बिंदू भी रखा।

फिल्म में उनके किरदार का नाम मोना था, जिसे खलनायक अजीत ‘मोना डार्लिंग’ कहते थे। बात को आज भी कई लोग इसी नाम से पुकारते हैं।

<p> हालांकि, मोना के डार्लिंग बनने से पहले बात को शब्बोस के नाम से जाना जाता था। राजेश खन्ना की फिल्म कटी पतंग (1971) में उनके किरदार शबनम के कारण उन्हें यह नाम मिला। दरअसल, फिल्म में बिंदू का एक डायलॉग था, 'मेरा नाम है शबनम... प्यार से में शब्बो। <br /> & nbsp; </p>

हालाँकि, मोना के प्रिय बनने से पहले, बिंदु को शब्बोस के नाम से जाना जाता था। राजेश खन्ना की फिल्म कटी पतंग (1971) में उनके किरदार शबनम के कारण उन्हें यह नाम मिला। दरअसल, बिंदू के पास इस फिल्म का डायलॉग था, ‘मेरा नाम है शबनम.. प्यार से में शब्बो’

बिंदू आखिरी बार 2008 में फिल्म 'महबूबा' में नजर आई थीं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बिंदू के पति चंपकलाल जावेरी के साथ पुणे के कोरेगांव पार्क में रहते हैं. वह डर्बी का सदस्य है और उसे अक्सर पूना रेस कोर्स में देखा जा सकता है। & Nbsp; </p>

बिंदू आखिरी बार साल 2008 में फिल्म ‘महबूबा’ में नजर आई थीं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बिंदू के पति चंपकलाल जावेरी के साथ पुणे के कोरेगांव पार्क में रहते हैं.

वह डर्बी का सदस्य है और उसे अक्सर पूना रेस कोर्स में देखा जा सकता है।

<p> 2012 में उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था- मैं टीवी शो में काम नहीं करना चाहता था। इसके बजाय, मुझे अपनी पुरानी फिल्में देखने और यात्रा करने में जीवन का आनंद मिलता है। मेरे पति को कभी-कभी हमारे खोए हुए बच्चे की याद आती है। अगर वह जिंदा होते तो आज 30 साल के होते। & Nbsp; </p>

2012 में उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था- मैं टीवी शो में काम नहीं करना चाहता था।

इसके बजाय, मुझे अपनी पुरानी फिल्में देखने और यात्रा करने में जीवन का आनंद मिलता है। मेरे पति को कभी-कभी हमारे खोए हुए बच्चे की याद आती है। अगर वह जिंदा होते तो आज 30 साल के होते।


Posted

in

by

Tags:

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *