जज्बे को सलाम :-दूल्हे ने ठुकरा दिया 4 करोड़ रुपए का दहेज, दुल्हन के बाप से बोला आपकी बेटी ही है सबसे बड़ी दौलत

जैसे की हम सभी जानते है की साल में जब कभी शादियों का सीजन आता है तो कई शादियाँ सम्पन्न होती है | जो अपनी एक नई शादीशुदा लाइफ की शुरआत करते है | कुछ ऐसी भी शादियाँ होती है जो खूब सुर्खिया बटोरती है |

आज के समय में एक से एक महँगी शादियों के चर्चे तो पूरे देश दुनिया मे होते रह ते हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसी अनोखी शादी के बारे में बताने वाले हैं जिसके बारे में जान कर आप भी आश्चर्य चकित रह जाओगे. आज हम आपको एक ऐसी शादी के बारे में बताएंगे जो पुरे देश के लिए एक मिसाल बनी हुई है | आज के समय में दहेज की वजह से शादियाँ टूटना व  लड़कियों को प्रताड़ित करना एक आम मुद्दा बन चूका  है।

वहीं हरियाणा से एक ऐसा मामला सामने आया है जिसके हर कोई तारीफ कर रहा है। खास कर दूल्हे की तारीफ करते हुए लोग थक नही रहे हैं। इस शादी में दिलहे ने पूरे देश के लिए एक नई मिसाल कायम की है। इस शादी के बारे में सभी को विचार करने और गहराई से सोचने की जरूरत है।

यह शादी हरियाणा के सिरसा के आदमपुर इलाके हुई । इस शादी ने पूरे समाज को एक नई प्रेरणा दी है। इस शादी में दूल्हे बलेन्द्र ने यह शर्त रखी कि वो किसी भी तरह का दहेज नही लेगा और न ही शादी में किसी भी तरह की फिजूल खर्ची की जाएगी। दूल्हे ने यह कहा कि आप अपनी बेटी दे रहे हैं इससे ज्यादा क्या हो सकता है।

आपको बता दें कि यह शादी एक रुपये के दहेज पर पूरी शादी संम्पन हो गई। यह शादी बिना किसी फिजूल खर्ची के पूरी हो गई। इस शादी में न ही बाजे गाजे की धूम धाम रही न ही

बिना मतलब का कोई तामझाम रहा। यह पूरी शादी मात्र 1 रुपए में संम्पन हो गई।शादी में लेवल दूल्हा अपने परिवार वालों के साथ आया। और शादी रीती रिजाव के साथ पूरी हुई। शादी पूरी होने के बाद नव विवाहित जोड़े में सोशल मीडिया पर तस्वीरे साझा की,जिसके बाद सभी इन दोनों को खूब बधाई दे रहे हैं।

आपको  बता दे की शादी के दौरान दुल्हन के परिवार वाले दूल्हे को दहेज के रूप में 4 करोड़ रुपया देने के  तैयार थे। लेकिन दूल्हे बलेन्द्र ने किसी की ना सुनी और समाज के लिए एक नई मिसाल कायम की , बलेन्द्र अपने कुछ खास रिश्तेदारों के साथ बरात लेकर लड़की के घर आये थे । बलेन्द्र ने नारियल के साथ 1 रुपए स्वीकार करके शांति पूर्वक तरीके से लड़की से शादी करने के लिए तैयार हुए और पूरी शादी सम्पन्न करी।

बलेन्द्र ने साथ ही समाज को यह भी समझाने की कोशिश की यदि सभी ऐसे पहल करेंगे तो समाज मे बेटियो की स्थिति में बहुत बड़ा सुधार हो सकेगा। और उनकी शिक्षा पर भी ध्यान दिया जा सकेगा।


Posted

in

by

Tags: