इन राशियों से शनि की साढ़े साती खत्म हो गई है, इन राशियों के कई फायदों के साथ सौभाग्य।

इन राशियों से शनि की साढ़े साती खत्म हो गई है, इन राशियों के कई फायदों के साथ सौभाग्य।

हमारे हिंदू धर्म में, हर कोई ग्रह और नक्षत्रों में विश्वास करता है। और इस सब के साथ, हमारे धर्म और दिशाओं आदि को भी बहुत अधिक महत्व दिया जाता है।

और इस सब के साथ, ज्योतिष में यह भी कहा जाता है कि इन ग्रहों और नक्षत्रों के संकेत सीधे मानव जीवन से संबंधित हैं। और इसीलिए हम हमेशा सुनते हैं कि किसी ग्रह की चाल में बदलाव के कारण उस व्यक्ति की नियति का दृष्टिकोण भी बदल जाता है, जिसके परिणामस्वरूप उसका जीवन बदल जाता है।

ज्योतिष में ग्रहों की चराई बहुत महत्वपूर्ण है, जब एक ग्रह एक राशि से दूसरे राशि में बदलता है, तो सभी राशियों पर इसका प्रभाव पड़ता है। ज्योतिष के अनुसार, आने वाले वर्ष में ग्रहों की स्थिति में कई बदलाव होंगे। उसी वर्ष शनि की स्थिति भी बदल जाएगी। शनि मकर राशि को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश करेगा, जिससे कुछ राशियों को लाभ होगा और कुछ राशियों को अधिक परेशानी होगी।

इस वर्ष शनि धनु राशि से निकलकर अपनी राशि मकर में प्रवेश करेगा। शनि की साढ़ेसाती का प्रभाव पहले से ही धन और मकर राशि में चल रहा था, अब कुंडली के लिए साढ़ेसाती का पहला चरण भी शुरू होगा। तो आइए देखते हैं कि किस राशि पर शनिदेव का प्रभाव अच्छा रहेगा और किन राशियों पर शनिदेव का प्रकोप रहेगा।

ये 4 शनिदेव के प्रकोप से मुक्त होंगे –

धन राशी –

शनि को एक राशि से दूसरी राशि में जाने में लगभग ढाई साल लगते हैं, इसलिए जब शनि धन राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश करेगा, तो धन राशी का दूसरा चरण समाप्त हो जाएगा और तीसरा चरण शुरू होगा। से कम लगती होगी। कुछ मासिक धर्म और शारीरिक समस्याएं होंगी लेकिन यह पिछले वर्षों की तुलना में अधिक अनुकूल होगी।

वृश्चिक –

वृश्चिक लोग मकर से मकर पर जाकर शनि के चंगुल से मुक्त हो जाएगा। पिछले ढाई वर्षों में आपने जो मेहनत की है, उसका भुगतान करना शुरू हो जाएगा। यह साल आपके लिए मजेदार और समृद्ध होगा। तनाव और भ्रम की स्थिति कम होगी। साल 2020 में उन्हें कई अच्छी खबरें मिलेंगी।

वृषभ – मकर राशि में

शनि के प्रवेश से आपको भी राहत मिलेगी। वृषभ राशि के लोग शनि के ढाई साल के पणोति के प्रभाव से मुक्त होंगे। जीवन में चल रही अप-डाउन स्थिति कम होगी। जीवन का रथ शांति से पटरियों पर चलेगा। मकर राशि में शनि की चाल के साथ, पनोती का प्रभाव समाप्त हो जाएगा।

कन्या राशि –

पिछले ढाई वर्षों से इस राशि के लोग शनि की पंचोटी के प्रभाव में चल रहे हैं। शनि के राशि परिवर्तन के साथ, इस राशि के लोग भी पानोती से मुक्त हो जाएंगे। मेहनत का फल जल्द मिलेगा। आर्थिक लाभ के अवसर मिलेंगे। यह मानकर कि आपको जीवन में कुछ कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा। पनोती के खत्म होने से तमाम तरह की परेशानियों से राहत मिलेगी।

छवि स्रोत

शनि के मकर राशि में प्रवेश करने से कुंभ राशि का जन्म शुरू होगा और मिथुन और तुला का जन्म ढाई साल होगा। इस राशि वालों के जन्म का आने वाला पूरा साल संघर्ष भरा हो सकता है।

इसके अलावा, जानें कि शनि के राशि परिवर्तन का अन्य राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा –

मेष –

वर्ष 2020 में मेष राशि के लोगों को शनि से डरने की जरूरत नहीं है, शनि की साढ़ेसाती का इस राशि पर प्रभाव नहीं होगा।

मिथुन –

साल 2020 में मिथुन राशि के जातकों की कुंडली में फिट नहीं होते हैं।

कर्क-

वर्ष 2020 में शनि की साढ़ेसाती का कर्क राशि के जातकों पर प्रभाव नहीं पड़ेगा।

सिंह –

वर्ष 2020 में सिंह राशि के जातक शनि की साढ़ेसाती से प्रभावित नहीं होंगे, इसलिए आपको इससे डरने की जरूरत नहीं है।

तुला –

शनि के Sadasati इस साल तुला लोगों को प्रभावित नहीं करेगा।

मकर –

शनि अपनी ही राशि चक्र पर हस्ताक्षर में चराई है, इसलिए इस साल इस राशि चक्र पर हस्ताक्षर के लोगों के शनि के शनि के दूसरे चरण में होगा।

कुंभ राशि –

इस साल कुंभ राशि वाले जन्म के पहले चरण की शुरुआत करते हैं, जो अगले पांच वर्षों तक आपकी कुंडली में रहेगा।

मीन राशि –

इस वर्ष शनि कुंडली में मीन राशि में नहीं है।

pinal

Leave a Reply

Your email address will not be published.