घर में सत्यनारायण की कथा कर रहें हैं तो न करें ये गलतियाँ, अन्यथा सारी पूजा व्यर्थ हो जाएंगी।

घर में सत्यनारायण की कथा कर रहें हैं तो न करें ये गलतियाँ, अन्यथा सारी पूजा व्यर्थ हो जाएंगी।

दोस्तों हर किसी के जीवन में सुख-दुख का आना जारी रहता है। लेकिन, कभी-कभी दुख के ये बादल हम पर हावी हो जाते हैं।

ऐसे में इनसे छुटकारा पाने के लिए हमें भगवान की शरण में जाना पड़ता है। कहा जाता है कि अगर आपके ऊपर भगवान की छाया होगी तो आप इस दुख को लेकर भाग जाएंगे। अब परमेश्वर को प्रसन्न करने के कई तरीके हैं।

जैसे इनकी नित्य पूजा करना, इनके नाम पर व्रत करना आदि। लेकिन अगर आप चाहते हैं कि आपका वचन परमेश्वर तक जल्दी पहुंचे, तो आपको विशेष पूजा करनी होगी। इस विशेष पूजा में सत्यनारायण की कथा सबसे पहले आती है।

सत्यनारायण की कथा को घर में रखने के कई फायदे हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपके घर में बुरी आत्माओं का वास है और इससे घर में अजीबोगरीब चीजें होती हैं, तो आप सत्यनारायण की कहानी बताकर इससे छुटकारा पा सकते हैं।

सत्यनारायण कथा | Satyanarayan Katha in Hindi - Hindi100

इसके अलावा अगर आपके घर में कुछ निजी समस्याएं चल रही हैं या दुर्भाग्य आपका साथ नहीं छोड़ता है, तो ऐसी स्थिति में सत्यनारायण की कहानी सुनाना साहसिक है।

सत्यनारायण की कहानी घर के अंदर सकारात्मक ऊर्जा के स्तर को बढ़ाती है, जिससे घर में सकारात्मक बदलाव ही आता है। इसलिए आपको अपने घर में हर तीन महीने में कम से कम एक बार सत्यनारायण का पाठ करना चाहिए।

सत्यनारायण की कहानी की असली विधि और तरीका आपको कोई भी पंडित से पता चलेगा। यह आपके घर में अच्छा करेगा। बहरहाल, इस कहानी से जुड़ी एक और अहम बात है,

जो शायद आपके पंडित ने भी नहीं बताया होगा। दरअसल, आपको सत्यनारायण की कहानी सुनाते समय कुछ खास गलतियां करने से बचना चाहिए। अगर आप ये गलतियां करते हैं तो आपको इस पूजा का लाभ नहीं मिलेगा।

सत्यनारायण की कहानी में न करें ये गलती 

1. जिस कमरे में आप सत्यनारायण का वर्णन कर रहे हैं, उस कमरे में एक साफ सुथरा कमरा होना बहुत जरूरी है। कमरा धूल, गंदगी, मकड़ी के जाले या मलबे से मुक्त होना चाहिए। आप उस कमरे को साफ सुथरा रखें।

ऐसा इसलिए है क्योंकि गंदे कमरे में नकारात्मक ऊर्जा अधिक होती है। फिर जब आप कहानी के दौरान भगवान को अपने घर में आमंत्रित करते हैं, तो उन्हें कमरे का नकारात्मक माहौल नहीं दिखता। इसलिए इस बात का विशेष ध्यान रखें कि सत्यनारायण की कहानी वाले कमरे का हर कोना साफ-सुथरा हो।

2. सत्यनारायण की कथा सुनने के लिए आस-पास के क्षेत्रों से भी लोग आते हैं। उस स्थिति में, वे आपको खाने या खिलाने के लिए कुछ भी न भेजें। वह आपके घर में अतिथि है और अतिथि भगवान का रूप है। तो, कहानी के अंत में, मेहमानों के लिए चाय या नाश्ते की व्यवस्था करना सुनिश्चित करें।

3. सत्यनारायण की कहानी पूरे परिवार के लाभ के लिए बताई गई है। तो कोशिश कीजिए कि इस कहानी में घर के सभी लोग बैठे हों। इस तरह आपके पूरे परिवार में सकारात्मक ऊर्जा का वास होगा और घर में कोई लड़ाई-झगड़ा आदि नहीं होगा।

satyanarayan katha 2 - Newstrend

साथ ही कथा के दौरान घर में शांति बनाए रखें और चिल्लाने या झगड़ने जैसा माहौल न बनाएं। इस दौरान आपको गुस्सा नहीं करना चाहिए और सभी से शांति से बात करनी चाहिए।

pinal

Leave a Reply

Your email address will not be published.