यहां धरती में विलीन हुई थीं माता सीता..यहाँ है पाताललोक का रास्ता…रामायण को न मानने वाले लोग ना देखे

कानपुर उत्तर प्रदेश राज्य के नगर जिले में स्थित एक शहर है। यह एक तीर्थ स्थल है जो गंगा नदी के तट पर स्थित है। हिंदुओं के लिए इस पवित्र आश्रम का बहुत महत्व है। यह वह स्थान है जहां ऋषि वाल्मीकि ने रामायण लिखी थी। साथ ही इस सृष्टि के निर्माण से पहले भगवान ब्रह्मा तपस्या करने बैठे थे। साथ ही इस स्थान पर भगवान श्री राम,

जब माता सीता का परित्याग हुआ तो वे भी यहीं रहने लगीं। इसी आश्रम में माता सीता ने लव और कुश को जन्म दिया था। कहा जाता है कि ये सारी घटनाएं इसी जगह हुई थीं भारत के कानपुर शहर में बिठूर नाम की एक जगह है। कहा जाता है कि यह जगह कई मिथकों से जुड़ी हुई है।

यहीं पर रामायण लिखी गई थी। मंदिर के पुजारी के मुताबिक करीब 8 लाख साल पहले यहां माता सीता आई थीं। लव-कुश ने यहीं महर्षि वाल्मीकि से ज्ञान सीखा था। सीता माता के कई बर्तन आज भी इस स्थान पर सुरक्षित स्थान पर रखे हुए हैं। आप उन्हें देखने को मिलते हैं।

लव और कुश इसी कुंड में नहा रहे थे। इस जगह पर एक कुआं है और इसका पानी कभी भी बहना बंद नहीं हुआ है। लव-कुश ने भी यहीं पर घोड़ों की सवारी करना सीखा था। साथ ही वे पेड़ जहां वे सीख रहे थे आज भी वहां मौजूद हैं। भगवान हनुमान एक बार यहां एक घोड़ा लेने आए थे। तो उससे लव कुश से लड़कर,

उन्हें पराजित कर भगा दिया गया। आज भी इस बिठूर में प्रतिबंधित जगह देखी जा सकती है। हनुमान के बाद उन घोड़ों को चु-राने आए भगवान लक्ष्मण को भी यहां प्रतिबंधित कर दिया गया था। तब लक्ष्मण और हनुमान की कोई खबर नहीं थी, इसलिए भगवान श्री राम स्वयं आए। तब यु द्ध में उन्हें एहसास हुआ,

लव और कुश उनके इकलौते बेटे हैं। पुराणों के अनुसार उसके बाद माता सीता और भगवान राम का पवित्र मिलन इसी स्थान पर हुआ था। जब भगवान राम ने माता सीता को छूने की कोशिश की, तो वह पृथ्वी में समा गई। इस स्थान की आज भी पूजा की जाती है। यहीं से ब्रह्मा जी ने यज्ञ करके सृष्टि की रचना की थी।

इस प्रकार बिठूर एक पौराणिक स्थान के साथ-साथ एक रहस्यमय प्राकृतिक स्थान के रूप में प्रसिद्ध है। दोस्तों अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक, कमेंट और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें। ताकि उन्हें भी यह महत्वपूर्ण जानकारी मिल सके। रोजाना ऐसे ही नए आर्टिकल पढ़ने के लिए हमारे फेसबुक पेज को अभी लाइक करें।


Posted

in

by

Tags: