मुकेश अंबानी के घर काम करने वाले नौकरों की तनख्वाह जान उड़ जाएंगे आपके होश

मुकेश अंबानी के घर काम करने वाले नौकरों की तनख्वाह जान उड़ जाएंगे आपके होश

दुनिया के सबसे अमीर उद्योगपतियों की लिस्ट में एक भारत के मुकेश अंबानी को कौन नहीं जानता। रिलायंस जियो के मालिक मुकेश अम्बानी की धन संपत्ति के बारे में क्या कहना, उनका घर किसी राजमहल से कम नही और पूरी दुनिया में सबसे अच्छे घरों की सूची में एक है। मगर क्या आप जानते है,

करोडो-अरबों रूपए कमाने वाले मुकेश अंबानी के घर की देखभाल करने वाले नौकरों की सैलरी कितनी मिलती है। शायद नहीं, तो आज हम बताते है आपको की अरबपति मुकेश अंबानी के नौकरों को मिलने वाली तनख्वाह जिसे जानकर निश्चित रूप से आपके तो होश ही उड़ जाएंगे।

सबसे पहले तो आपको बताना चाहेंगे कि मुकेश अंबानी जिन्होंने हाल के दिनों में जियो लांच कर देशभर में इंटरनेट की क्रांति ला दी है। बता दे की जियो के आने के बाद देश में इंटरनेट यूज़र्स की संख्या में दोगुने से भी ज्यादा का इजाफा हुआ है। खैर, हम यहाँ बात कर रहे है,

मुकेश अंबानी के घर की जो भारत में सबसे महंगा और पूरे विश्व में दूसरे नंबर पर है जो मुम्बई में है जिसका नाम ‘एंटीलिया’ है। बता दे की 27 मंजिल इस घर की अनुमानित कीमत करीब ग्यारह हज़ार करोड़ है जिसमे एक से बढ़ कर एक हाइटेक सुविधाएँ मौजूद है।

आपको जानकार हैरानी होगी की इस आलिशान घर में करीब 168 गाड़ियां है जिनके लिए 7 मंजिल पार्किंग बानी हुई है। साथ ही इसमें आपकी सुख सुविधा के लिए थिएटर, जिम आदि सब कुछ है। बता दे की इतने बड़े घर में तक़रीबन 600 कर्मचारी काम करते है,

जिनके साथ मुकेश कभी नौकर की तरह नहीं बल्कि परिवार के सदस्य की तरह व्यवहार करते है। आपको बता दे की यहाँ अंटीलिया में काम करने वाले फोर्थ क्लास कर्मचारी की तनख़्वाह किसी प्रथम श्रेणी के सरकारी अफसर जितनी है।

अब इस बात से आप खुद ह अंदाज़ा लगा लीजिये की उन्हे कितनी सैलरी मिलती होगी। बताना चाहेंगे की यहाँ इस आलीशान बंगले में हर मंजिल पर एक हैड कर्मचारी नियुक्त रहता है जो उस मंजिल के हर काम की जानकारी रखता है और उसका प्रबंधन भी करता है। भारत के इस सबसे महेंगे घर में काम करने वाले प्रत्येक हैड कर्मचारी की मासिक आय करीब 2 लाख से भी ज्यादा है, साथ ही उन्हे रहना से खाने तक की सभी सुख सुविधाएं भी मिलती है।

pinal

Leave a Reply

Your email address will not be published.