खूंखार तेंदुए से बच्चे को छुड़ाने के लिए भीड़ गई मां, 1 KM तक पीछा करके बच्चे को छुड़ाया…!

कहते हैं भगवान हर किसी की को मदद करने के लिए नहीं पहुंच सकते इसलिए उन्होंने मां को बनाया। मां का वात्सल्य अपने बच्चों के लिए इस कदर होता है कि वह अपनी जान को भी जोखिम में डालकर अपने बच्चे की जान बचाने का काम करती है।

चाहे सामने मुसीबत कितनी बड़ी हो लेकिन मां के सामने जब अपने बच्चे को बचाने की बात आती है तो बड़ी से बड़ी मुसीबत से दो-दो हाथ करने की क्षमता किसी भी माँ में होती है। ऐसी ही एक बहादुर मां का किस्सा मध्य प्रदेश के सीधी जिले से सामने आया है। इस घटना को देखकर आपके शरीर पर कांटे खड़े हो जाएंगे और आप भी इस बहादुर मां की तारीफ करने लगोगे।

6 साल के बच्चे को तेंदुआ लेकर भागा

घटना बीते रविवार की बताई जा रही है जब एक महिला के 6 साल के बच्चे को तेंदुआ अपने जबड़े में उठाकर ले गया। तेंदुए के द्वारा अपने बच्चे को लेकर जाता देख महिला काफी ज्यादा आक्रोश में आ गई और उसने तेंदुए से लड़ाई कर ली। आखिरकार महिला ने बच्चे को

तेंदुए के जबड़े से छुड़ा दिया। जानकारी के लिए बता दें कि यह घटना मध्य प्रदेश के सीधी जिले के कुसमी ब्लॉक के बाड़ीझरिया गांव की है। घटना बीते रविवार की शाम की बताई जा रही है जब यह महिला अपने बच्चों के साथ अपने घर के आंगन में आग जलाकर ताप सेक रही थी। महिला का घर काफी पहाड़ी और जंगली इलाके में है इसलिए वहां पर जंगली जानवर आते जाते रहते हैं।

बच्चे की मां ने किया तेंदुए से दो-दो हाथ

महिला अपने बच्चों के साथ आंगन में बैठी ताप सेक ही रही थी कि अचानक पीछे से एक तेंदुआ आ गया और उसने महिला के 6 साल के बच्चे राहुल को अपने जबड़े में पकड़ लिया। तेंदुए ने बच्चे को अपने जबड़े में पकड़ा और उसे जंगल की ओर लेकर भागा। जैसे ही तेंदुए के द्वारा अपने बच्चे पर किए हुए

हमले को किरण बैग नाम की इस महिला ने देखा तो वह काफी ज्यादा डर गई और किसी भी तरीके से अपने बच्चे को तेंदुए की चपेट से छुड़ाने की कोशिश में महिला भी तेंदुए के पीछे जंगल की ओर दौड़ी।महिला तेंदुए के पीछे लगभग 1 किलोमीटर तक दौड़ी और अंत में एक जगह पर जाकर रुक गई क्योंकि तेंदुआ उसकी आंखों से ओझल हो गया था।

इस प्रकार बच्चे को छोड़ भागा तेंदुआ

महिला ने उस तेंदुए को खूब ढूंढा तभी उसे झाड़ियों में छुप कर बैठा तेंदुआ दिखाई दिया और उसके जबड़े में अपना 6 साल का बच्चा भी दिखाई दिया। महिला काफी आक्रोश में आ गई और उसने अपने हाथ में एक डंडा उठा लिया। महिला तेंदुए के ऊपर डंडे से वार करने लगी और जोर-

जोर से चिल्लाकर ग्रामीण लोगों को भी बुलाने लगी। इसी दौरान गांव के भी सभी लोग दौड़ते हुए वहां पहुंचे और इतनी ज्यादा भीड़ देखकर तेंदुआ बच्चे को छोड़कर वहां से भाग गया। ग्रामीणों ने वहां पर आकर तुरंत वन विभाग के अधिकारियों को फोन किया और घटना की जानकारी दी।

वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची

घटना की जानकारी मिलते ही वन विभाग के अधिकारी वहां पर पहुंचे और उन्होंने तुरंत महिला और उसके बच्चे को अस्पताल में भर्ती करवाया। दुख की बात रही कि इस हमले में महिला के 6 साल के बच्चे को थोड़ी चोट आई और महिला को भी काफी चोट आई।

हालांकि उनकी जान बच गई यह गनीमत रही। इस महिला की बहादुरी की हर कोई प्रशंसा कर रहा है। जिस प्रकार से अपने बच्चे की जान बचाने के लिए तेंदुए जैसे खतरनाक जानवर से यह महिला भीड़ गई यह कोई साधारण बात नहीं है।


Posted

in

by

Tags: