इस वजह से नसों में होती हैं रूकावट, लक्षण शुरू होने के साथ ही तुरंत करे उपचार।

इस वजह से नसों में होती हैं रूकावट, लक्षण शुरू होने के साथ ही तुरंत करे उपचार।

शिरापरक रुकावट एक ऐसी बीमारी है जिसके कारण रक्त का प्रवाह ठीक से नहीं हो पाता है। शिरापरक रुकावट की समस्या किसी को भी हो सकती है। नसों में रुकावट और जिस स्थान पर तंत्रिका अवरुद्ध होती है, वहां बहुत दर्द होता है, वह हिस्सा नीला हो जाता है।

एक शोध के अनुसार, भारत के युवाओं में शिरापरक रुकावट की समस्या अधिक प्रचलित है और लगभग 40-60% भारतीय युवा शिरापरक रुकावट रोग से पीड़ित हैं।

यह समस्या महिलाओं में ज्यादा होती है और ज्यादातर महिलाओं को यह बीमारी गर्भावस्था के बाद ही होती है। एक शोध के मुताबिक करीब 20 फीसदी महिलाएं इस समस्या से पीड़ित हैं।

शिरापरक रुकावट के पीछे कई सारगर्भित कारण हैं, जो इस प्रकार हैं।

1. रक्त की सघनता को शिराओं में रुकावट का मुख्य कारण माना जाता है। खून के गाढ़े होने से रक्त का प्रवाह ठीक से नहीं हो पाता और नसें ब्लॉक हो जाती हैं।

2. चोट लगने से भी रुकावट आती है।

3. शरीर में खराब रक्त संचार भी शिरापरक रुकावट का एक कारण है।

4. जो लोग ज्यादा तला-भुना और बाहर का खाना खाते हैं, वे भी नसों को ब्लॉक कर देते हैं।

5. एक जगह पर घंटों तक न बैठने और शारीरिक गतिविधियां करने से नसें आसानी से बाधित हो जाती हैं।

6. अधिक वजन वाले लोगों में तंत्रिका अवरोध का खतरा बढ़ जाता है।

7. शरीर में पोषक तत्वों की कमी के कारण कई लोग ब्लॉक हो जाते हैं।

शिरापरक रुकावट के लक्षण

नसों में ब्लॉकेज होने पर ये लक्षण दिखाई देते हैं।

नीली नसें।

जिस हिस्से में तंत्रिका अवरुद्ध है, वह भारी लगता है।

मांसपेशियों में ऐंठन।

निचले पैर में सूजन और अत्यधिक दर्द।

नसों के आसपास खुजली।

इस तरह अपनी जान बचाएं

1. शिरापरक रुकावट को रोकने के लिए विशेष ध्यान रखें। अच्छी जीवनशैली अपनाएं। यह रोग अच्छी जीवनशैली अपनाने से नहीं होता है। वे लोग जो

2. जो लोग अच्छा खाते हैं उनमें रोग विकसित होने का जोखिम कम होता है। दरअसल, अच्छा आहार खाने से मोटापा नहीं होता है और शिरापरक रुकावट नहीं होती है।

3. जो लोग व्यायाम नहीं करते हैं। उनका खून गाढ़ा होने लगता है और नसें ब्लॉक हो जाती हैं। नसों में रुकावट के कारण दर्द और सूजन होती है। इसलिए रोजाना व्यायाम करें। व्यायाम से शरीर में रक्त का प्रवाह ठीक से होता है।

इन बातों का रखें ध्यान

अगर आपको नसों में कोई रुकावट दिखे तो तुरंत डॉक्टर से मिलें। ऐसा इसलिए है क्योंकि देरी से यह बीमारी गंभीर रूप ले सकती है।

नसें होने पर तला और चिकना खाना न खाएं। क्योंकि इस तरह का खाना खाने से खून गाढ़ा होता है।

इस रोग से पीड़ित लोगों को उबली हुई सब्जियों और दाल का ही सेवन करना चाहिए।

pinal

Leave a Reply

Your email address will not be published.