निरहुआ के पास कभी साइकिल तक नहीं थी, अब रेंज रोवर-फॉर्च्यूनर जैसी गाड़ियों से चलते हैं; जानिये कितनी प्रॉपर्टी के हैं मालिक

बीजेपी ने लोकसभा उपचुनाव में आजमगढ़ सीट से एक बार फिर भोजपुरी स्टार दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ (Dinesh Lal Yadav Nirahua) को मैदान में उतारा है। 2019 के लोकसभा चुनाव में भी निरहुआ बीजेपी के टिकट पर इसी सीट से चुनाव लड़े थे, लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। अखिलेश यादव के इस्तीफा देने के बाद अब इस सीट पर उपचुनाव होने जा रहा है।

संघर्ष भी कम नहीं: मूल रूप से उत्तर प्रदेश के गाजीपुर के रहने वाले दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ आज किसी पहचान के मोहताज नहीं है। उनकी गिनती भोजपुरी इंडस्ट्री के टॉप एक्टर्स में होती है। एक्टिंग, सिंगिंग के साथ-साथ निरहुआ अब फिल्में-एलबम भी प्रोड्यूस करने लगे हैं।

बेहद साधारण परिवार से ताल्लुक रखने वाले निरहुआ के पास एक वक्त में साइकिल तक नहीं थी। उनके पिता कलकत्ता (अब कोलकाता) में नौकरी करते थे और महीने की आमदनी महज 3500 रुपये थी। इसी में पत्नी और 5 बच्चों ( 2 बेटे और तीन बेटियों) का पालन-पोषण करना पड़ता था।

झुग्गी में बीता बचपन, लेकिन हार नहीं मानी: एक इंटरव्यू में निरहुआ ने बताया था कि चूंकि परिवार की माली हालत ठीक नहीं थी, इसलिए वे और उनके भाई भी पिता के साथ कोलकाता चले गए। बचपन लगभग यहीं बीता। वो वक्त ऐसा था कि उनके पास साइकिल तक नहीं थी। कई किलोमीटर पैदल ही जाया करते थे।

साल 1997 में निरहुआ अपने गांव लौटे और बी.कॉम की पढ़ाई पूरी की। हालांकि उनका मन गीत-संगीत में रमा था। दरअसल, निरहुआ (Dinesh Lal Yadav Nirahua) के चचेरे भाई विजय लाल यादव मशहूर बिरहा गायक थे और अपने इलाके में उनका खासा रुतबा था। निरहुआ उनको अपना प्रेरणा-स्रोत मानते थे और एक दिन उन्हीं की तरह नाम कमाने का सपना पाले थे।

 


Posted

in

by

Tags: