मिट्टी का AC : न बिजली का झंझट न खर्चे का बोझ ,बस पानी से चलता है ,ठंडक ऐसी की सोच में पर जाये

मिट्टी का AC : न बिजली का झंझट न खर्चे का बोझ ,बस पानी से चलता है ,ठंडक ऐसी की सोच में पर जाये

दोस्तों गर्मी का सीज़न शुरू हो चुका है और गर्मी में ज्यादातर लोग AC का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन AC महंगा होने के कारण हर कोई इसे अपने घर में नहीं लगा सकता। ऐसे में बहुत से लोगों को झुलसने वाली गर्मी का सामना बिना AC के ही करना पड़ता है।

आपने आजतक प्लास्टिक के AC के बारे में सुना और देखा होगा। लेकिन क्या अपने कभी सुना है कि मिट्टी से भी ac बन सकता है। जी हाँ आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति के बारे में जानकारी देने वाले हैं जिसने बहुत पुराणी तकनीक का इस्तेमाल कर मिट्टी से AC बना दिया।

जैसे कि आप जानते होंगे कि मिट्टी ठंडक पहुंचाने के काम आती है, मिट्टी के घर ठन्डे होते हैं और मिट्टी के घड़े में पानी ठंडा रहता है। लेकिन अब मिट्टी से ही ठंडी हवा भी मिल सकेगी। यानि कि मिट्टी से अब AC बनाया जा सकेगा जिसे हर कोई अपने घर में लगा सकेगा और गर्मी में ठंडी हवा का आनंद ले सकेगा। आपको बता दें कि मिट्टी से AC बनाने का काम दिल्ली के रहने वाले एक आर्किटेक्ट मोनीष द्वारा किया गया है।

मोनीष का कहना है कि उन्होंने मिट्टी की मदद से हवा को ठंडा करने के लिए पारम्परिक मड तकनीक का इस्तेमाल किया है। मोनीष का कहना है कि मिट्टी की मदद से बनाया गया ये उपकरण मौजूदा तापमान को करीब 6 से 7 डिग्री तक कम कर सकता है और हवा को ठंडा कर देता है।

मोनीष का कहना है कि उन्होंने पानी को ठंडा करने वाली तकनीक का अलग तरीके से इस्तेमाल कर इस उपकरण को बनाया है और इस के ऊपर पानी डालने के बाद इसके अंदर से जो भी हवा गुज़रेगी वो करीब 7 डिग्री तक ठंडी हो जाएगी। सबसे खास बात ये है

कि ये यंत्र कुदरती तरीके से हवा को ठंडा करते हैं और इनसे पर्यावरण को भी फायदा होता है। जैसे कि आप जानते हैं कि एक आम AC कमरे को ठंडा करने के साथ साथ पर्यावरण को गर्म कर रहे हैं। लेकिन ये मिट्टी का AC पर्यावरण को फायदा देगा।

इसमें सबसे पहले टेराकोटा ट्यूब अर्थात मिट्टी की पाइप पर पानी डाला जाता है। आप चाहें तो मोटर से भी पानी डालने का इंतजाम कर सकते हैं। यह पानी ट्यूब के नीचे बने बड़े से टैंक में स्टोर होता है और वही पानी फिर ट्यूब पर डाला जाता है..

pinal

Leave a Reply

Your email address will not be published.