शादी के 35 साल बाद भगवान ने भर दी झोली, 55 साल की महिला ने दिया 3 बच्चों को जन्म

शादी के 35 साल बाद भगवान ने भर दी झोली, 55 साल की महिला ने दिया 3 बच्चों को जन्म

मां को हर इंसान की पहली गुरु माना जाता है। एक मां ही होती है जो संतान में संस्कारों का बीज रोपण करती हैं। मां अपने बच्चों की दुख, परेशानियां और उनके मन की आवाज बिना बताए ही सुन लेती हैं। जब कोई महिला पहली बार मां बनती है तो वह समय उसकी जिंदगी का सबसे हसीन पल होता है। मां बनने का सुख एक मां ही समझ सकती है। जिन महिलाओं को पहली बार मां बनने का सौभाग्य प्राप्त होता है उनकी खुशी का अनुमान कोई भी नहीं लगा सकता है।

वहीं ऐसी बहुत सी महिलाएं भी हैं जिनको शादी के कई सालों बाद भी संतान सुख की प्राप्ति नहीं हो पाती है, जिसकी वजह से वह अपने जीवन में संतान प्राप्ति की लालसा में तड़पती रहती हैं। संतान की लालसा में पति-पत्नी अक्सर कई मंदिरों और धार्मिक स्थलों पर जाकर माथा टेककर मन्नतें मांगते हैं।

परंतु ऐसा कहा जाता है ना कि भगवान के घर देर है लेकिन अंधेर नहीं है। भगवान सच्चे मन से की गई प्रार्थना को जरूर पूरा करता है। आज हम आपको एक ऐसे मामले के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं, जिसमें शादी के 35 साल बाद 55 साल की एक महिला ने 3 बच्चों को जन्म दिया।

खबरों के अनुसार ऐसा बताया जा रहा है कि केरल के मुवाटूपुझा टाउन में 55 साल की एक महिला ने 3 बच्चों को जन्म दिया है। इस महिला की शादी के 35 साल हो चुके थे परंतु उनकी कोई भी संतान नहीं थी और इसमें सबसे खास बात यह है कि इतने लंबे समय के बाद इस महिला ने एक साथ तीन बच्चों को जन्म दिया। 55 साल की सिसी और 59 साल के उनके पति जॉर्ज एंटीना अपने तीन बच्चों के जन्म के बाद बेहद खुश हैं। उनके घर में तीन गुनी खुशियां आई हैं।

आपको बता दें कि 22 जुलाई को 55 वर्षीय महिला सिसी ने 3 बच्चों को जन्म दिया। सिसी का ऐसा कहना है कि उन्होंने भगवान से बहुत प्रार्थना की थी और आखिर में उनको अपनी प्रार्थनाओं का जवाब मिल गया है। सिसी ने बताया कि उनके पास भगवान का शुक्रिया अदा करने के लिए शब्द नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि हम कई सालों से एक बच्चे की लालसा में भगवान से प्रार्थना कर रहे थे परंतु भगवान ने हमारी झोली खुशियों से भर दी। भगवान ने हमें तीन बच्चे दिए और तीनों ही बच्चे स्वस्थ हैं। आपको बता दें कि सिसी ने दो बेटे और एक बेटी को जन्म दिया है। डिलीवरी के कुछ दिनों के बाद सिसी को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया था।

वहीं सिसी के पति जॉर्ज का ऐसा कहना है कि हमने भगवान से बहुत प्रार्थनाएं की थी। इसके अलावा वह लगातार डॉक्टरों से भी मिलते रहते थे और इलाज करवाते रहते थे। उन्होंने बताया कि केरल में इलाज कराने के बाद उन्होंने विदेशों में भी इलाज करवाया था लेकिन इलाज का कोई भी नतीजा निकल कर नहीं आया।

तब उनके सब्र का बांध टूट गया और उन्होंने यह मान लिया था कि अब उनका कोई भी बच्चा नहीं होगा। जॉर्ज ने बताया कि उनकी और सिसी की शादी साल 1987 में हुई थी। वह गल्फ में काम कर चुके हैं।

सिसी का ऐसा कहना है कि शादी के 2 साल के बाद उन्होंने बच्चे के लिए कई इलाज करवाएं। उन्होंने बताया कि समाज इस तरह का है कि कोई औरत माँ ना बने तो उसे अजीब तरह की दृष्टि से लोग देखने लगते हैं। वह 35 सालों तक इस तरह की समस्या का सामना कर चुकी हैं लेकिन आखिर में उनको जो खुशी मिली वह उनके जीवन की सबसे बड़ी खुशी थी।

pinal

Leave a Reply

Your email address will not be published.